SC का फैसला- निजी कंपनियों के कर्मचारियों के पेंशन मे होगी भारी वृद्धि, अब मिलेगी इतनी पेंशन

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए अधिक पेंशन का रास्ता साफ कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने केरल हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की ओर से जारी विशेष अपील को खारिज कर दिया है। जिससे प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के ज्यादा पेंशन मिलने का रास्ता खुल गया है।

केरल हाईकोर्ट ने अपने फैसले में ईपीएफओ से कहा था कि रिटायर होने वाले कर्मचारियों को उनकी अंतिम सैलरी के आधार पर पेंशन मिलनी चाहिए। अभी तक आईपीएफओ एक तय सीमा के अंतर्गत कर्मचारियों को पेंशन देता है। कोर्ट के इसी आदेश के खिलाफ ईपीएफओ ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया।

अभी वर्तमान में ईपीएफओ अधिक्तम 15 हजार अधिक्तम सैलरी को आधार मानकर प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों को पेंशन देता था। जानकारी के मुताबिक पेंशन की गणना अब कर्मचारी के द्वारा की गई नौकरी में बिताए गए कुल वर्ष +2/ 70 x अंतिम सैलरी के आधार पर होगी।

Quaint Media

यानी अगर किसी प्राइवेट कर्मचारी की सैलरी 50 हजार रुपए महीना है तो उसे नए नियम के मुताबिक 25 हजार रुपए की पेंशन मिलेगी। साल 2014 में ईपीएफओ द्वारा किए गए संशोधन के बाद निजी क्षेत्र के कर्मचारियों की पेंशन की गणना 6400 के स्थान पर 15 हजार के आधार पर करने की मंजूरी दी गई।

सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिन ईपीएफओ की याचिका खारिज करते हुए प्राइवेट कर्मचारियों को कई गुना बढ़ी हुई पेंशन मिलने का रास्ता साफ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद देश के लाखो प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों को फायदा पहुंचेगा।