पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर सिंगापुर ने जताया शोक, कहा- देश ने खो दिया सच्चा दोस्त

New Delhi. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर सिंगापुर सरकार ने शोक जताया है। सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन ने कहा है कि देश ने एक सच्चा मित्र खो दिया है।

पूर्व पीएम को श्रद्धांजलि देते हुए बालकृष्णन ने कहा कि अटल जी एक करिश्माई नेता और प्रभावशाली वक्ता थे। भारतीय उच्चायोग के शोक पुस्तक में उन्होंने लिखा कि- ‘वाजपेयी एक दूरदर्शी नेता थे, जिन्होंने भारत के विकास में काफी अहम किरदार निभाया। उन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था और पड़ोसी देशों के साथ संबंध को मजबूत बनाने के काफी प्रयास किए।‘

उन्होंने लिखा कि वाजपेयी जी सिंगापुर और भारत के संबंधों के हिमायती रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस दु:ख की घड़ी में सिंगापुर सरकार की संवेदना भारत की करोड़ो जनता और अटल जी के परिवार के साथ है। इससे पहले विश्व के तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष अटल जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त कर चुके हैं।

श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना और प्रधानमंत्री ने शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि वाजपेयी ने प्रधानमंत्री रहते हुए श्रीलंका में शांति स्थापना के कई प्रयास किए। वही पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि अटल बिहारी वाजपेयी भारत-पाकिस्तान के संबंधों को सुधारने के लिए कई कदम उठाए थे।

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने भी पूर्व प्रधानमंत्री के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि वाजपेयी जी भारत के एक सच्चे सपूत थे। उनके निधन से देश को गहरा सदमा लगा है। बांग्लादेशी पीएम ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी जी को उनके विकास कार्यों और पड़ोसी देशों के साथ मधुर संबंध के लिए याद किया जाएगा।

ब्रिटेन सरकार ने भी पूर्व प्रधानमंत्री के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त डोमिनिक अस्किथ ने कहा है कि वाजपेयी जी भारत के महानतम नेताओं में शामिल हैं। उन्हें ब्रिटेन की जनता के बीच भी बड़े सम्मान के साथ देखा जाता है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली में बीते 16 अगस्त को हुआ।