32 चुनाव लड़ चुके श्याम बाबू फिर लड़ रहे हैं चुनाव,बोले-भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी रहेगी लड़ाई

New Delhi: भारत में लोकसभा चुनाव के शुरू होने में महज अब 4 दिन बचे हैं। हर किसी पर आम चुनाव का खुमार है। हर कोई अपनी पंसदीदा पार्टी की जीत और विरोधी पार्टी की हार की बात कर रहा है। सैकड़ों प्रत्याशी इस बार भी चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

इनमें से एक प्रत्याशी ऐसा है जो साल 1962 से चुनाव लड़ रहा है। वह प्रत्याशी कोई और नहीं ओडिशा के 84 साल के श्याम बाबू सुबुधी हैं। जो इस बार भी लोकसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपनी किस्मत आजमा रहे है।

84 साल के हो चुके ओडिशा के डॉ श्याम बाबू सुबुधी ने कहा कि मैं इस बार ओडिशा की अस्का और बेहरामपुर लोकसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहा हूं। मैंने खुद के लिए ट्रेनों, बसों और बाजारों में चुनाव प्रचार भी शुरू कर दिया है। मेरे लिए हार जीत का कोई मतलब नहीं है। मैं अपनी लड़ाई जारी रखूंगा।

श्याम बाबू सुबुधी 1962 से लोकसभा, विधानसभा और राज्यसभा का चुनाव लड़ते आ रहे हैं। लेकिन अभी तक उन्हें जीत नहीं नसीब हुई है। श्याम बाबू का कहना है कि मैंने अभी तक 32 चुनाव लड़े हैं। मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखूंगा। मेरा चुनाव चिन्ह क्रिकेट बैट है। जिस पर मैंने प्रधानमंत्री उम्मीदवार लिख रखा है।