शिवसेना बोली- रामायण के अन्य किरदारों को भी तैयार रखने चाहिए अपने जाति प्रमाण पत्र

Shivsena

New Delhi: भगवान हनुमान की जाति पर मचे राजनीतिक विवाद के बीच शिवसेना ने बीजेपी पर तंज कसा है।

हनुमान जी की जाति पर छिड़ी बहस को लेकर बीजेपी पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने कहा कि बेहतर है कि रामायण के अन्य पात्र भी अब अपना जाति प्रमाण पत्र तैयार रखें। इसी के साथ शिवसेना ने भगवान हनुमान की जाति पर छिड़ी बहस को बेबुनियाद और निराधार बताया है।

शिवसेना ने कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा में हनुमान दी पर जाति का ठप्पा लगाकर नई रामायण लिखने की कोशिशें की जा रही है। पार्टी का मानना है कि ऐसी कोशिशों को रोका जाना चाहिए। सामना में शिवसेना ने कहा कि अयोध्या मे राम मंदिर का अभी निर्माण किया जाना है लेकिन भक्ति और वफादारी के अवतार हनुमान की जाति को लेकर बीजेपी में एक बहस शुरु हो गई है।

Shivsena

सामना में कहा गया है कि हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों में प्रचार करते हुए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि हनुमान दलित थे। इसके बाद कई बीजेपी नेताओं ने दावा किया कि हमुमान उनकी जाति के थे। असल में भगवान हनुमान की जाति का पता लगाना मूर्खता है। और बीजेपी वाले यही मूर्खता कर रहे हैं।

शिवसेना ने कहा कि हनुमान का जाति पर बहस छेड़कर बीजेपी के नेता उनका मजाक उड़ा रहे हैं। लेकिन जो अपने आप को हिंदुत्व का सरंक्षक कहते हैं वे इस पर चुप्पी साधे हुए हैं। हाल के चुनावों में बीजेपी की हार का सामना करने के बाद हनुमान की जाति पर छिड़ी बहस जारी रहने की संभावना है। अत: रामायण के अन्य पात्रों को भी अबू अपना जाति प्रमाणपत्र तैयार रखना चाहिए।

Leave a Reply