दुनिया की सबसे खूबसूरत जासूस,जिसने पूरे यूरोप को नचाया,लेकिन पैसों की लालच में बन गई डबल एजेंट

New Delhi:  जासूसी की दुनिया में अगर सबसे मशहूर महिला जासूस पर बात किया जाए तो वह मार्गरेट गीर्तोईदा जेले का है, हालांकि मार्गरेट गीर्तोईदा जेले को  ज्यादातर लोग  माता हारी के नाम से जानते है। माता हारी उर्फ मार्गरेट जेले का जन्म 7 अगस्त 1876 के दौरान नीदरलैंड में हुआ था। हुस्न की खूबसूरत मार्गरेट गीर्तोईदा के कई दीवाने थे। कहा जाता है कि पचास हजार  से ज्यादा लोगों के जान लेने की जिम्मेदार मार्गरेट गीर्तोईदा उर्फ माता हारी थी। इसके अलावा  उनपर जर्मनी की जासूसी करने का आरोप लगा था।

माता हारी ने जिस शख्स के साथ शादी की थी। वो नीदरलैंड की शाही सेना का एक बड़ा अधिकारी था। इसके बाद दोनों वेस्टइंडीज के जावा द्वीप पर रहने लगे, हालांकि इस दौरान माता हारी ने एक डांस कपनी खोल लिया और वहां से वे वापस नीदरलैंड आ गयी, जिसके बाद माता हारी ने अपने पति को 1907 में तलाक दे दिया। इसी बीच जब वे एक लोकप्रिय डांसर के रूप में जाने जाने लगी तो कई बड़े नेता और सेना के अधिकारी उनके डांस को देखने आने लगे। उनकी लोकप्रियता को देखकर फ्रांस की सरकार ने माता हारी को एक जासूस के रूप में इस्तेमाल किया और जर्मनी की कई सीक्रेट जानकारियां माता हारी के द्वारा हासिल कर ली।

 

 

हालांकि माता हारी को यही से पैसों की लालच बढ़ती चली गई और उन्होंने फ्रांस सरकार की भी कई सारी सीक्रेट जानकारियां जर्मनी को देने लगी। यह बात बाद में फ्रांस की खुफिया विभाग को पता चल गया। फ्रांस की खुफिया विभाग ने  तब पकड़ा, जब माता हारी स्पेन की राजधानी मैड्रिड से कुछ खुफिया संदेश को जर्मनी भेजा जा रहा था। इसी दौरान फ्रांसीसी की खुफिया विभाग ने इन सिग्नलों को पकड़ लिया और ऐसा माना गया कि यह जानकारी एच-21 द्वारा फ्रांसीसी की खुफिया विभाग को हाथ लगी। वहीं इसके बाद उन्हें साल 1917 को गिरफ्तार कर लिया गया और उनपर 50 हजार से ज्यादा लोगों के जान लेने का जिम्मेदार ठहराकार उन्हें 15 सितंबर, 1917 को गोलियों से भून दिया गया और इस तरह हुस्न की खूबसूरत माने जाने वाले माता हारी को 41 साल के उम्र में अपने जान से हाथ धोना पड़ा।