अभी-अभी: रंजन गोगोई होंगे SC के अगले मुख्य न्यायधीश, दीपक मिश्रा होंगे सेवानिवृत

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट को जल्द ही अब नया न्यायधीश मिलने जा रहा है और दीपक मिश्रा 2 अक्टूबर को सेवानिवृत होंगे उससे पहले ही उन्होंने रंजन गोगोई के नाम की सिफारिश की है। ऐसे में अब रंजन गोगोई के नाम की घोषणा कर दी गई है और अब वह सुप्रीम कोर्ट के अगले न्यायधीश होंगे।

परम्पराओं के अनुसार जो भी चीफ जस्टिस होता है उसको रिटायर होने से पहले किसी बड़े और सीनियर के नाम का सुझाव देना होता है। ऐसे में अब दीपक मिश्रा ने रिटायरमेंट से पहले रंजन गोगोई के नाम की सिफारिश सरकार को भेजी है और अब वह ही अगले मुख्य न्यायधीश होंगे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, 2 अक्टूबर को चीफ जज दीपक मिश्रा सेवानिवृत होंगे और उसके बाद अगले दिन 3 सितंबर को रंजन गोगोई मुख्य न्यायधीश के तौर पर कार्यभार संभालेंगे। रंजन गोगोई उन चार जजों में भी शामिल रहे हैं जिन्होंने सबसे पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश पर सवाल खड़े किये थे और अब वह खुद इस पद को संभालने जा रहे हैं। सिफारिश मांगी थी. परंपरा के मुताबिक चीफ जस्टिस सबसे वरिष्ठ जज के नाम की सिफारिश करते हैं। गौरतलब है कि जस्टिस रंजन गगोई का नाम सुप्रीमकोर्ट के उन चार जजों में शामिल हैं जिन्होंने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस की थी, जिसके बाद कानून के गलियारे में भूचाल आ गया था और देश की राजनीति भी गरमा गई थी. ऐसे में अब रजन गोगोई के मुख्य न्यायधीश बनने पर गजब की हलचल देखने को मिल सकती है. बहरहाल अभी ऐसा कुछ सामने नहीं आया है, लेकिन रंजन के नाम की मुहर जरूर लग गई है और अब वह ही सुप्रीम कोर्ट के अगले न्यायधीश होंगे।

 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, रंजन गोगोई इससे पहले कई शहरों में जज रह चुके हैं। 2011 में पंजाब और हरियाणा हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस बनने वाले गोगोई अप्रैल 2012 में सुप्रीम कोर्ट आए। उनका कार्यकाल नवंबर 2019 तक का होगा। देश के इतिहास में यह पहली बार हुआ था जब देश के चार बड़े जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेस कर सीजेआई के खिलाफ आरोप लगाए थे। असम से ताल्लुक रखने वाले गोगोई ने 1978 से वकालत शुरू कर दी थी और पहली बार 2001 में उन्हें गुवाहाटी हाई कोर्ट का जज बनाया गया। ऐसा देश के इतिहास में पहली बार देखने को मिला था जब मुख्य न्यायधीश के खिलाफ ही सुप्रीम कोर्ट के जजों ने हंगामा किया था और उनका विरोध जताया था। ऐसे में रंजन गोगोई इस दौरान मुख्य रूप से सामने आये थे और अब उनके नाम की ही सिफारिश चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने की है। जाहिर है इस बात को लेकर हंगामा भी देखने को मिल सकता है।