पूर्व जस्टिस पीसी घोष ने पहले लोकपाल के रूप में ली शपथ,राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी रहे मौजूद

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज पिनाकी चंद्र घोष ने देश के पहले लोकपाल के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ ले ली है।

पूर्व जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के पहले लोकपाल के तौर पर शपथ दिलाई। इस मौके पर उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीफ जस्टिस रंजन गोगोई भी मौजूद थे।

पूर्व जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष इसस पहले आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और सुप्रीम कोर्ट के जज रह चुके हैं। जस्टिस घोष वर्तमान में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य भी हैं और मानवाधिकार कानूनों के जानकार के तौर पर उन्हें माना जाता है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

पीसी घोष को लोकपाल नियुक्त करने के साथ न्यायिक सदस्यों के तौर पर जस्टिस दिलीप बी भोंसले, जस्टिस प्रदीप कुमार मोहंती, जस्टिस अभिलाषा कुमारी, जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी होंगे। न्यायिक साथ ही कमिटी में 4 अन्य सदस्यों के तौर पर दिनेश कुमार जैन, अर्चना रामसुंदरम, महेंद्र सिंह और डॉक्टर इंद्रजीत प्रसाद गौतम भी शामिल किए गए हैं।

लोकपाल की नियुक्ति की सिलेक्ट कमिटी में प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस या उनके द्वारा नामित जज, नेता विपक्ष, लोकसभा अध्यक्ष और एक जूरिस्ट होता है। हालांकि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने लोकपाल नियुक्ति करने वाली सिलेक्ट कमिटी की बैठक में हिस्सा नहीं लिया था।