ईरानी विदेश मंत्री ने किया बड़ा ऐलान-‘भारत का आर्थिक सहयोग बरकरार, जारी रखेगा तेल की खरीददारी’

New Delhi: अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच ईरानी विदेश मंत्री जावेद ज़ारिफ ने ऐसान किया है कि भारत के साथ उसका आर्थिक सहयोग और तेल व्यापार जारी रहेगा। ईरान की तरफ से यह घोषणा भारतीय समकक्ष के साथ बातचीत के बाद सामने आई है। दरअसल, अमेरिकी राषट्रपति डॉनाल्ड ट्रंप ने ईरान परमाणु संधि से हटने के बाद ईरान पर परमाणु उत्पादन का आरोप लगाते हुए उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए थे, जिससे दुनियाभर के देश खासकर कि भारत को तेल की अनियमितता के साथ संघर्ष करना पड़ रहा है।

मई 2018 में ईरान परमाणु संघि से हटने बाद अमेरिकी ने ओपेक के तीसरे सबसे बड़े तेल आपूर्तिकर्ता ईरान पर नई प्रतिबंधों को लागू करने की योजना बनाई। इतना ही नहीं, अमेरिका ने अपने मित्र देशों पर भी ईरान से तेल का आयात ना करने पर दवाब बनाया, जिसके संबंध नए प्रतिबंधों 4 नवंबर से अमल में लाया जाएगा। इसी के विपरीत ईरानी विदेश मंत्री जावेद ज़ारिफ ने भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से न्यूयॉर्क में आयोजित संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान द्वीपक्षीय बैठक में मुलाकात की।

संय़ुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण के दौरान ईरानी विदेश मंत्री ज़ारिफ ने कहा कि “हमारे मित्र देश भारत ने हमें आश्वासन दिया है कि वे हमारे साथ आर्थिक सहयोग और तेल व्यापार को लेकर पूर्णरूप से आश्वस्त हैं। यह बात हमारे भारतीय समकक्ष ने हमारे सामने स्पष्ट की है।” इतना ही नहीं, ज़ारिफ ने कहा कि “हमारे पास भारत का व्यापक सहयोग है जिसमें ऊर्जा शामिल है। क्योंकि ईरान हमेशा से ही भारत के लिए ऊर्जा का विश्वसनीय स्रोत रहा है।”

अपने संबोधन में ईरान विदेश मंत्री जावेद ज़ारिफ ने स्पष्ट किया कि “ईरान भारत के साथ अपने द्वीपक्षीय संबंधों का विस्तार करने को लेकर अग्रसर है।” उन्होंने याद दिलाया कि “चाबहार बंदरगाह अभी भी कार्यात्मक है और ईरान इसके लिए भारत समेत अपने अन्य निवेशकों के सहयोग और समर्थन से अपनी क्षमता का विकास-विस्तार करना चाहता है।”