2.17 करोड़ की ठगी के मामले में BJP नेता मुरलीधर राव पर FIR, रक्षामंत्री के फर्जी साइन का आरोप

New Delhi: तेलंगाना पुलिस ने राज्य के एक कपल से 2 करोड़ रूपए से ज्यादी की ठगी के मामले में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव समेत 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

तेलंगाना के सरूरनगर पुलिस ने हैदराबाद के रियलटी सेक्टर कारोबारी टी प्रवर्णा रेड्डी और उनकी पत्नी महिपाल रेड्डी की शिकायत पर मुरलीधर राव, कृष्णा किशोर, ईश्वर रेड्डी, रामचंद्र रेड्डी, गजुल हनुमंत राव, समा चंद्रशेखर रेड्डी, बाबा, श्रीकांत, और जी श्रीनिवास के खिलाफ आ’पराधिक मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस का कहना है कि प्रवर्णा रेड्डी की शिकायत के मुताबिक मुरलीधर राव और अन्य लोगों ने उनसे इस वादे के साथ 2.17 करोड़ रुपए लिए कि उन्हें फर्मा एक्जिल का चेयरमैन बनाया जाएगा। इसके लिए आरोपियों ने फर्मा एक्जिल चेयरमैन पद का नियुक्ति पत्र भी दिखाया। जिसमें रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के जाली दस्तखत थे।

इस मामले को लेकर जब बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव से पूछा गया तो उन्होंने इन आरोपों को खारिज किया और कहा कि इस मामले से उनका कोई लेना देना नहीं है। इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धार 406, 420, 468, 471, 506 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

शिकायतकर्ता कपल ने बताया कि नवंबर 2015 में ईश्वर रेड्डी ने उन्हें अप्रोच किया था और कहा था कि उसके एक करीबी कृष्णा करोड़ की बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिल मुरलीधर राव से काफी जान पहचान है। साथ ही उसने ये भी कहा कि वह किसी को भी सरकार में अह्म पदों पर नियुक्ति करवा सकता हैं।

कपल के मुताबिक बाद में में ईश्वर रेड्डी ने उन पर दबाव बनाया और ऑफर स्वीकार कर 1 करोड़ से ज्यादा भुगतान करने को कहा। बाद में आरोपियों ने उन्हें रक्षा मंत्री के फर्जी दस्तखत वाला नियुक्ति पत्र दिखाकर उनसे रुपए ले लिय। लेकिन उनकी नियुक्ति नहीं हुई। जब प्रवर्णा रेड्डी ने ईश्वर रेड्डी और रामचंद्र रेड्डी से पूछा तो उन्होंने पूरे मामले से पल्ला झाड़ने की कोशिश की।

तेलंगाना पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है। वहीं आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्ष इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश में जुट गया है। अगर मुरलीधर राव पर बीजेपी का शिकंजा कसता है तो बीजेपी की तेलंगाना में काफी फजीहत हो सकती है।