EC ने ममता बनर्जी के आरोपों को नकारा, कहा- आचार संहिता के दौरान ट्रांसफर करना उसका अधिकार

New Delhi: चुनाव आयोग ने अधिकारियों के तबादले को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से लगाए गए आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है।

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के उन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। जिसमें उन्होंने कहा था कि आयोग ने केंद्र की भाजपा सरकार के इशारे पर राज्य के चार वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का तबादला कर दिया है।

आयोग ने कहा कि तबादले का उसका निर्णय अपने शीर्ष अधिकारियों में से एक के अलावा विशेष पुलिस पर्यवेक्षक की रिपोर्ट पर आधारित था। आयोग ने ममता बनर्जी के आरोपों के जवाब में यह भी कहा कि चुनाव कानून के अनुसार आचार संहिता लागू होने के दौरान अधिकारियों का तबादला करना और उन्हें नियुक्त करना उसका अधिकार है।

दरअसल ममता बनर्जी ने बीते दिन पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि चुनाव आयोग के अधिकारी भाजपा के इशारे पर काम कर रहे है। उनके इसी पत्र का जवाब देते हुए चुनाव आयोग ने कहा कि विश्व के सबसे लोकतंत्र में मतदाताओं के लिए चुनाव आयोग और राज्य सरकारें तथा केद्रशासित प्रदेश संयुक्त रूप से जवाबदेह है।

चुनाव आयोग की ओर से लिखे गए पत्र में जन प्रतिनिधित्व कानून की धारा 28 ए का उल्लेख किया गया है। चुनाव आयोग आचार संहिता लागू होने के दौरान अधिकारियों का तबादला और उनकी नियुक्ति कर सकता है।