IAS बी चंद्रकला पर CBI के बाद अब ED ने कसा शिकंजा, मांगी नियुक्ति और आवास की जानकारी, FIR दर्ज

New Delhi: अवैध खनन मामले में IAS अधिकारी बी चंद्रकला की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। दरअसल सीबीआई के बाद अब ईडी ने उन पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।

दरअसल सीबीआई के बाद अब ईडी ने अवैध खनन मामले में मनी लांड्रिंग एक्ट समेत कई अन्य धाराओं में आईएस बी चंद्रकला समेत 11 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसके साथ ही ईडी ने नियुक्ति एंव कार्मिक विभाग से चंद्रकालला की तैनातियों और आवास की जानकारी भी मांगी है।

सीबीआई ने 2012 से 2016 के बीच हुए अवैध खनन के मामले में एफआईआर दर्ज की है। पिछले दिनों सीबीआई ने आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला के लखनऊ आवास पर छापेमारी की थी। टीम ने घर से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं। सपायर अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 101 में सीबीआई की टीम ने छापेमारी की थी।

B Chandrakala

सीबीआई ने अवैध खनन मामले में चंद्रकला समेत जिन 11 लोगों को आरोपी बनाया था ईडी ने भी उन्हें आरोपी बनाया है। ईडी जल्द ही सभी आरोपियों से पूछताछ करेगी। ईडी ने आईएएस बी चंद्रकला और सपा एमएलसी रमेश चंद्र मिश्रा समेत 11 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

साल 2012 से 2013 के बीच खनन मंत्रालय अखिलेश यादव के ही पास था जो उस समय प्रदेश के मुख्यमंत्री भी थे। अखिलेश के साथ-साथ उस अवधि में जितने भी मंत्री थे सभी जांच के दायरे में आएंगे। सीबीआई की टीम ने हमीरपुर में भी छापेमारी की जहां टीम ने दो बड़े मौरंग व्यवसायिों के घरों में दबिस दी है। रमेश मिश्रा और सत्यदेव दीक्षित शहरे के बड़े मौरंग व्यापारी है।