रात के 1 बज रहे थे, दरवाजा बंद था, उसने हमें जाने नहीं दिया और डेढ़ घंटे तक वहीं इंतजार किया

Quaint Media

New Delhi: जहां एक तरफ कैब ड्रइवरों की अश्लील हरकतें सुनने को मिलती हैं, वहीं इस ड्राइवर ने जो किया वो वाकई काबिलेतारीफ है। जो कहीं ना कहीं फिर से मानवता पर विश्वास जगा देती है। सोशल मीडिया पर एक दिलचस्प कहानी वायरल हो रही है, ये कहानी हर किसी को जरूर पढ़नी चाहिए। उबर के एक ड्राइवर की कहानी लोगों का खूब दिल जीत रही है। कहानी है कंपनी के कैब ड्राइवर संतोष की।

ये ड्राइवर आधी रात में दो महिलाएं के साथ रहा, ऐसा सिर्फ इसलिए क्योंकि इन महिलाओं को जिस सोसाइटी में छोड़ना था उस सोसाइटी का दरवाजा बंद था। ऊपर से रात के 1:30 बज रहे थे। ऐसे में कैब ड्राइवर का ये फैसला दिल जीतने वाला है। रात के वक्त कैब ड्राइवर ने दो महिलाएं के साथ तब तक इंतजार किया जब तक सोसाइटी का दरवाजा नहीं खुल गया। वह उन्हें अकेला नहीं छोड़ना चाहता था।

Quaint Media

संतोष अपनी कैब में प्रियषमिता गुहा और उनकी मां को बतौर सवारी बिठाया। जब वो दोनों को लेकर उनकी डेस्टिनेशन पहुंचा तो उन्होंने देखा कि उसका गेट बंद है। करीब रात के 1:30 बज रहे थे। दोनों की राइड खत्म हो चुकी थी। डेस्टिनेशन भी आ चुका था। लेकिन ड्राइवर संतोष ने उन्हें अकेला छोड़ने से इनकार कर दिया। जब तक वो अंदर नहीं गईं, वो वहीं खड़ा रहा। सबसे दिलचस्प बात तो ये है कि संतोष ने तब तक कोई बुकिंग भी नहीं ली।

प्रियषमिता गुहा और उनकी मां ने ड्राइवर की खूब तारीफ की। उन्होंने कहा कि आज के वक्त में ऐसे लोग बहुत कम मिलते हैं जो दूसरों के बारे में पहले सोचते हैं। संतोष जैसे दिलेर इंसान मिलना भी किस्मत की बात है। आज संतोष ने जो किया वो सभी के लिए एक मिसाल है।कैब ड्राइवर संतोष के बारे में प्रियषमिता ने सोशल मीडिया पर भी लिखा। उन्होंने ट्वीटर पर ट्वीट कर खूब तारीफ भी की। उनके इस ट्वीट पर लोगों ने जवाब दिया है कि ऐसे लोग मानवता में विश्वास कायम करते हैं। उबर ने भी रिप्लाई करते हुए कहा कि उन्हें संतोष पर गर्व है।