अरुण जेटली बोले- मिशन शक्ति के लिए UPA ने नहीं दी मंजूरी, अब कांग्रेस पीठ थपथपा रही

New Delhi: भारत ने अंतरिक्ष में अपनी ताकत का प्रदर्शन करते हुए मिशन शक्ति के जरिए बुधवार को अंतरिक्ष में एक लाइव सैटेलाइट को मा’र गिराया। जिसके बाद राजनीति भी शुरु हुई हैं। कांग्रेस जहां इसकी सफलता का श्रेय मनमोहन सिंह के प्रयासों को दे रही है। इसी पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने निशाना साधा है।

अरुण जेटली ने कांग्रेस की तरफ से किए जा रहे दावे पर तंज कसते हुए कहा कि आज कांग्रेस इस उपलब्धि के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है। लेकिन उन्हें शायद 21 अप्रैल 2012 को एक अखबार में प्रकाशित हेडलाइन याद नहीं है। वित्त मंत्री ने कहा कि वैज्ञानिक एक दशक से तैयार थे लेकिन उस समय की यूपीए सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मिशन की उपलब्धि का श्रेय पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों को दिया। इसी पर जेटली ने निशाना साधते हुए कहा कि यह बहुत समय से पहले हमारे वैज्ञानिकों की इच्छा थी और उनका कहना था कि हमारे पास क्षमता है लेकिन भारत सरकार इसकी अनुमति नहीं देती।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

जेटली ने कहा कि वैज्ञनिकों का कहना था कि सरकार द्वारा अनुमति नहीं मिलने के कारण हम इस ताकत को और डिवलेप करने में संभव नहीं है। मेरे कुछ कांग्रेस के मित्र आज अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। अहमद पटेल ने भी इस मिशन के लिए मनमोहन सिंह के प्रयासों को इसका श्रेय दिया थाय़

पिछली यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए जेटली ने कहा कि जब अग्नि 5 लॉन्च हुआ तो 21 अप्रैल 2012 में आप मनु पब्बी की स्टोरी पढ़ लें। स्टोरी में स्पष्ट था कि वैज्ञानिक वी के सारस्वत ने कहा कि हमारे पास ऐसी इच्छा और क्षमता है। लेकिन सरकार अनुमति नहीं दे रही। इसकी पूरी प्रक्रिया 2014 के बाद शुरू हुई। जब प्रधानमंत्री जी ने अनुमति दी।

अरुण जेटली ने कहा कि भारत के लिए यह उपलब्धि इसलिए बेहद खास है क्योंकि यह मिशन पूरी तरह से भारतीय है। उन्होंने कहा कि हम अंतरिक्ष पावर बन गए हैं। आज जो उपलब्धि हासिल हुई है वह 100 फीसदी भारतीय है। इसकी हर चीज का भारत में निर्माण में हुआ है। भारत में ही शोध हुआ है। भारत के पास स्पेस पावर बनकर यह शक्ति आई है।