एंटी मिसाइल परीक्षण पर बोला अमेरिका- भारत के साथ हमारे अंतरिक्ष, विज्ञान और तकनीक में साझा हित

New Delhi: भारत अंतरिक्ष में एंटी मिसाइल परीक्षण करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है। इससे पहले इस सूची में अमेरिका, रूस और चीन शामिल थे। अब अमेरिका ने भारत के ASAT परीक्षण पर बयान दिया है। इससे पहले चीन पाकिस्तान ने अपनी चिंता जताई थी।

अमेरिकी विदेश विभाग ने बयान देते हुए कहा कि हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एंटी सैटेलाइट परीक्षण को लेकर दिए बयान को हमने देखा है। भारत के साथ हमारी मजबूत रणनीतिक साझेदारी के रूप, हम अंतरिक्ष, विज्ञान और तकनीक में साझ रखते हैं। जिसमें अंतरिक्ष की सुरक्षा में सहयोग शामिल हैं।

विदेश विभाग ने कहा कि अंतरिक्ष में मलबा अमेरिकी सरकार के लिए महत्वपू्रण चिंता है। हमने भारत सरकार के बयानों पर ध्यान दिया कि परीक्षण अंतरिक्ष में मलबे को ध्यान में रखते हुए किया गया है। वहीं भारतीय विदेश मंत्रायल ने परीक्षण के मलबे से किसी प्रकार के ख’तरे से इनकार किया है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

इससे पहले अमेरिका के कार्यवहाक रक्षा सचिव पैट्रिक शानहान ने उन देशों को चेतावनी दी है जो अंतरिक्ष में ए सैट परीक्ष करने का विचार कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने इस बात को बोलते हुए भारत का नाम नहीं लिया। उनका कहना है कि अंतरिक्ष में ऐसे परीक्षणों से मलबा फैल सकता है।

शानहान ने बुधवार को कहा कि मेरा संदेश होगा। हम सब अंतरिक्ष में रहते हैं, चलिए इसे अव्यवस्थित नहीं करते। अंतरिक्ष एक ऐसा स्थान होना चाहिए जहां हम सब व्यवसाय का संचालन कर सकें। अंतरिक्ष एक ऐसी जगह जहां लोगों को काम करने की स्वतंत्रता होनी चाहिए।