ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड बोला- अयोध्या मसला एक मस्जिद देने का नहीं, उसूल का है

New Delhi: राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या में धर्मसभा के नाम पर विश्व हिंदू परिषद के शक्ति परीक्षण और शिवसेना की गतिविधियों को लेकर AIMPLB ने सवाल उठाए हैं।

ऑल इंडिया मुस्लि पर्सनल लॉ बोर्ड ने रविवार को कहा कि मसला एक मस्जिद देने का नहीं है बल्कि उसूल का है। मुस्लिम इस मुल्क में धीरे-धीरे कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे। शिवसेना और विश्व हिंदू परिषद की तरफ से अयोध्या में ऐसे हालात बनाए जा रहे हैं जिससे मुसलमानों के खिलाफ माहौल बन रहा है।

AIMPLB के महासचिव वली रहमानी ने कहा कि शिवसेना और वीएचपी की तरफ से अदालत को भी चुनौती दी जा रही है। आज धर्मसभा में लगा जमावड़ा इस बात पर मुहर लगा रहा है। AIMPLB के महासचिव ने कहा कि जहां तक बातचीत का मसला है तो हमसे कहा जाता है कि अयोध्या से बाहर मस्जिद बनाए। पर कुछ तुम हटो, कुछ हम हटे बात ये होनी चाहिए।

AIMPLB

AIMPLB का कहना है कि मसला एक मस्जिद देने का नहीं है बल्कि मसला उसूल का है कि हम लोग इस मुल्क में धीरे-धीरे और कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे। अगर हम किसी एक पक्ष में बातचीत करें तो कल उसे हटा दिया जाएगा और दूसरे लोग खड़े हो जाएंगे।

मौलाना रहमानी ने कहा कि अगर आज बाबरी मस्जिद के बारे में कोई समझौता किया जाए तो उसमें कई नुकसान हैं पहल यह है कि तब कहा जाएगा कि अगर मुसलमान एक मस्जिद छोड़ सकते हैं तो दूसरी मस्जिदें क्यों नहीं छोड़ सकते हैं।