2019 चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी में पड़ी बड़ी फूट, 6 सांसद थामेंगे BJP का दामन

New Delhi: लोकसभा चुनाव से कुछ महीनों पहले ममता बनर्जी की पार्टी को बड़ा झटका लगा है। दरअसल टीएमसी के कई सांसदों ने चुनाव से पहले पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के संकेत दिए हैं।

लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक दल खुद को मजबूत करने के साथ ही चुनावी रणनीति बना रहे हैं। मगर भाजपा के खिलाफ विरोध का झंडा उठाने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी को झटका लगा है। उन्हें पहला झटका बधुवार को बिष्णुपुर के सांसद सौमित्र खान के तौर पर लगा, जिन्होंने पार्टी का साथ छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है।

बताया जा रहा है कि बोलपुर के टीएमसी सांसद अनुपम हजारे भी बीजेपी में शामिल होने वाले हैं। राज्य के एक बड़े बीजेपी नेता ने कहा कि खान के अलावा टीएमसी के लगभग 6 सांसद हमारे संपर्क में हैं। हालांकि बीजेपी नेता ने सांसदों के नाम बताने से मना कर दिया है। लेकिन चर्चा है कि अर्पिता घोष और सताब्दी रॉय भी टीएमसी छोड़ सकते हैं।

Mamata Banerjee

टीएमसी में ममता बनर्जी के बाद नंबर 2 की हैसियत रखने वाले मुकल रॉय के करीबी और पार्टी से अंसुतुष्ट 2 सांसद भी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। टीएमसी के भीतर राजनीतिक हलचल ममता बनर्जी की रैली के 10 दिन पहले शुरू हो गई है। टीएमसी ने सौमित्र खान और अनुपम हजारे को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते बर्खास्त कर दिया है।

ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए सौमित्र खान ने कहा कि टीएमसी अब एक पार्टी नहीं रही बल्कि ममता औरउसके भतीजे अभिषेक की निजी कंपनी बन गई है। बंगाल में सिंडिकेट और पुलिस राज साथ साथ चल रहा है। वहीं टीएमसी की तरफ से कहा गया है कि सौमित्र खान और हजारे ने अपने क्षेत्र में कोई काम नहीं किया था इसलिए पार्टी उनका टिकट काटने वाली थी। हमें उनके जाने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।