तूफान में बिखरा परिवार, 6 हजार के लिए मां ने ही बेच दिया अपना बेटा

New Delhi: तमिलनाडू के तंजावुर मे एक ऐसा मामला सामने आया है जहां पुलिस ने एक 10 साल को उसकी ही मां ने बेच दिया था। असल में तमिलनाडु में कुछ महीने पहले आए विना’शकारी तूफान ‘गाजा’ ने कई घरों को बर्बाद किया। तंजावूर में भी कई दैनिक मजदूरी पर काम करने वाले मजदूरों के घर बिखरे है।

ऐसी ही है इस लड़के के परिवार की कहानी। इस तूफान में इस बच्चे के पिता की मृ’त्यु हो गई थी। जिसके कारण उसकी मां ने बंधुआ मजदूरी के लिए अपने 10 साल के बेटे को 6 हजार रुपए के बदले में महालिंगम को बेच दिया था। जहां बच्चे को पूरे दिन बकरियों को चराने काकाम दिया गया था। इस काम के बदले में उसे दिन में सिर्फ एक समय का खाना दिया जाता है, और एक दिन की दिहाड़ी के तौर पर 85 रुपए दिए जाते थे।

इस बारे में जब चाइल्डलाइन अधिकारियों को जब इस बारे में पता चला तो वो उस बच्चे को बचाने के लिए वहां पहुंच गए थे। बच्चे ने अधिकारियों को बताया कि उसके पिता के अंति’म सं’स्कार के लिए उसकी मां ने महालिंगम से पैसे उधार लिए थे। जिसे लौटाने के लिए उसे बेचा गया है।

बता दें कि ये पहला ऐसा मामला नहीं है। इससे पहले भी कुछ महिनों पहले ही ऐसे ही एक परिवार ने अपने 12 वर्षीय बेटे को 10 हजार रुपये के बदले बंधुआ मजदूर बना दिया और बेच दिया। तूफान में इस परिवार का घर और सारा सामान ब’र्बाद हो गया था। यह बच्चा यहां करीब 15 दिनों से मजदूरी कर रहा था। बच्चे के पैरंट्स ने अधिकारियों को बताया कि उन्होंने गरीबी के चलते अपने बच्चे को बी. चंदरू नाम के शख्स के खेतों में काम करने के लिए भेजा था। चंदरू ने इन्हें बच्चे के बदले 10 हजार रुपये दिए थे।